पांचवीं कक्षा के 100 मेधावियों को मिलेगी 48 से 72 हजार रुपये की छात्रवृत्ति

hp school student

हिमाचल प्रदेश के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले पांचवीं कक्षा के 100 मेधावी विद्यार्थियों को तीन वर्षों तक सालाना 48 से 72 हजार रुपये छात्रवृत्ति मिलेगी। शिक्षा विभाग ने हिमाचल प्रदेश स्वर्ण जयंती मिडल मेरिट छात्रवृत्ति योजना अधिसूचित कर दी है। छठी कक्षा में होने पर विद्यार्थियों को प्रति माह चार हजार, सातवीं कक्षा में प्रतिमाह पांच हजार और आठवीं कक्षा में होने पर प्रतिमाह छह हजार रुपये छात्रवृत्ति मिलेगी। सरकारी स्कूल में लगातार पढ़ाई करने और पांचवीं कक्षा में 75 फीसदी हाजिरी पूरी करने वाले विद्यार्थी छात्रवृत्ति योजना में शामिल होने के लिए पात्र होंगे। विद्यार्थियों का चयन एससीईआरटी सोलन की ओर से ली जाने वाली परीक्षा के आधार पर होगा।

विद्यार्थियों का चयन लिखित परीक्षा की मेरिट के आधार पर होगा। छात्रवृत्ति योजना में चयनित किए जाने वाले पांचवीं कक्षा के विद्यार्थियों की परीक्षा लेने को प्रदेश में 520 परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे। सोलन स्थित एससीईआरटी परीक्षा का आयोजन करेगा। राज्य स्तरीय परीक्षा के लिए जल्द ही शेड्यूल जारी होगा। नवंबर में परीक्षा का आयोजन होना प्रस्तावित है। दिसंबर में इसका परिणाम जारी होगा। सौ अंकों के बहु विकल्पिय सवाल विद्यार्थियों से पूछे जाएंगे। परीक्षा ढाई घंटे की होगी। मेंटल एबिलिटी के 40 सवाल पूछे जाएंगे। इन्वायरमेंट साइंस और गणित के बीस-बीस अंक तथा हिंदी और अंग्रेजी विषय से संबंधित दस-दस अंकों के सवाल पूछे जाएंगे।

कांगड़ा और मंडी से 14-14 विद्यार्थियों का होगा चयन
छात्रवृत्ति योजना में शामिल किए जाने वाले विद्यार्थियों का चयन करने के लिए शिक्षा विभाग ने इन्रोलमेंट आधार पर जिलावार विद्यार्थियों को कोटा तय कर दिया है। मंडी और कांगड़ा जिला से सबसे अधिक 14-14 विद्यार्थी चुने जाएंगे। चंबा से 12, शिमला-सोलन और सिरमौर से 11-11, कुल्लू से आठ, ऊना से सात, बिलासपुर-हमीरपुर से पांच-पांच और किन्नौर व लाहौल स्पीति जिला से एक-एक विद्यार्थी का चयन किया जाएगा।

सभी सरकारी स्कूलों में भरे जाएंगे परीक्षा के फार्म
परीक्षा में शामिल होने के लिए इच्छुक विद्यार्थियों को स्कूलों में ही फार्म भरने को दिए जाएंगे। उपनिदेशकों के माध्यम से स्कूलों में फार्म भेजे जाएंगे। क्लास टीचर फार्म भरने में विद्यार्थियों की मदद करेंगे। सभी आवेदनों को ऑनलाइन दर्ज करवाने का जिम्मा शिक्षकों का रहेगा। चयनित होने वाले विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति की राशि उनके बैंक खातों के माध्यम से जारी की जाएगी।

Author: SPCH