हिमाचल प्रदेश : B.ED करने वाले भी हो सकेंगे जेबीटी भर्ती में शामिल

हिमाचल प्रदेश : B.ED करने वाले भी हो सकेंगे जेबीटी भर्ती में शामिल

हिमाचल प्रदेश : B.ED करने वाले भी हो सकेंगे जेबीटी भर्ती में शामिल | बीएड करने वाले भी हिमाचल प्रदेश में जेबीटी भर्ती के लिए पात्र होंगे। हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट ने राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) के नियमों का हवाला देते हुए इन अभ्यर्थियों को बड़ी राहत दी है। हाईकोर्ट के इस फैसले से JBT-D.L.Ed उम्मीदवारों समेत राज्य सरकार को बड़ा झटका लगा है. हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को एनसीटीई के वर्ष 2018 के नियमों के अनुसार भर्ती प्रक्रिया में आवश्यक संशोधन करने का भी निर्देश दिया है।

शुक्रवार को राज्य उच्च न्यायालय ने जेबीटी भर्ती मामलों पर एक महत्वपूर्ण फैसला देते हुए स्पष्ट किया है कि शिक्षकों की भर्ती के लिए राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) द्वारा निर्धारित नियम प्राथमिक शिक्षा विभाग के साथ-साथ शिक्षकों पर भी लागू होते हैं। कर्मचारी चयन आयोग। न्यायमूर्ति तरलोक सिंह चौहान और न्यायमूर्ति सत्येन वैद्य की खंडपीठ ने याचिकाओं को स्वीकार करते हुए राज्य सरकार को एनसीटीई की 28 जून 2018 की अधिसूचना के अनुसार जेबीटी पदों की भर्ती के नियमों में आवश्यक संशोधन करने का आदेश दिया. कोर्ट, अब बीएड डिग्री धारक भी जेबीटी पदों के लिए पात्र होंगे

याचिकाकर्ताओं ने मांग की थी कि जेबीटी भर्ती के लिए उन पर भी विचार किया जाए। उन्होंने बीएड डिग्री धारक होने के अलावा टीईटी TET की परीक्षा भी पास की है। जेबीटी एनसीटीई के नियमों के अनुसार शिक्षक बनने के पात्र हैं। उल्लेखनीय है कि एनसीटीई के नियमों के तहत बीएड डिग्री धारकों को जेबीटी के पदों पर भर्ती के लिए पात्र बनाया गया है. उन्हें अपॉइंटमेंट मिलने पर 6 महीने का अतिरिक्त ब्रिज कोर्स करना होगा।

(आपको हमारी जानकारी अच्छी लगती है   और आपने यदि अभी तक हमारे ग्रुप्स को ज्वाइन नहीं किया तो अभी ज्वाइन कर ले और अपने दोस्तों को भी हमारे साथ ज्वाइन करवा दे   हमारे सोशल प्रोफाइल के लिंक्स पोस्ट के निचे दिए है  हम आगे भी आपको ऐसी प्रकार की  महवपूर्ण जानकारी आपको  प्रदान करने का प्रयास रखेंगे | धन्यवाद  (success pana chahte hai .com)

 

Telegram Group Join Now
Facebook Group Available & JOIN NOW
Instagram Click Here
YouTube Channel  Click Here
Whatsapp Group Join Now

Author: SPCH