हिमाचल प्रदेश गुम्मा के निवासी DR. Deep Kumar Thakur जिन्होने जीवन में हमारे चयन को लेकर शानदार बुक लिखी है

Himachal Pradesh resident of Gumma Dr. Deep Kumar Thakur who has written a wonderful book about our choices in life

हिमाचल प्रदेश मंडी जिला के गुम्मा (जोगिन्दर नगर ) के निवासी DR. Deep Kumar Thakur जिन्होने जीवन में हमारे चयन को लेकर शानदार बुक लिखी है  | प्रवरण काव्य जो इन्होने हिंदी में लिखी है जिसे पढ़ने के बाद आप खुद को सकारात्मक और अपने चयन को लेकर थोड़ा  जागरूक  व्  विचार करने पर खुद को रोक नहीं पाएंगे  | आप इस बुक को ऑनलाइन खरीद कर भी पढ़ सकते है मूल्य मात्र 100 रुपय है जो भी जिज्ञासु पाठक है वो इस  प्रवरण काव्य को पढ़ कर  आनद लेने के साथ – साथ खुद  को सकारात्मक और अपने चयन को लेकर सुधार कर सकते है | मैने ये बुक पढ़ने के बाद पाया की इन्होने कम शब्दो का प्रयोग कर व्यक्ति के चयन की परिकाष्ठा  को बहुत ही अच्छे से और आसान   के साथ गहरे पाठ को हमें  बताया है  आप एक  बार जरूर पढ़िए आपको हर बार हर पाठ में अलग धुन , विचार और चयन की परिकाष्ठा सिखने व् समझने को मिलेगी |  ये बुक सभी को पढ़नी चाहिए |  इस पुस्तक को लिखने पर हम  DR. Deep Kumar ठाकुर जी का तेह दिल से धन्यवाद करते जिन्होंने अपनी पुस्तक प्रवरण काव्य के माध्यम से युवाओ  को  सदेश दिया है की अपने  चयन को लेकर  सतर्क रहना चाहिए क्योकि हमारे द्वारा किये गए चयन हमारे लिए अमृत  बन सकते है जो हमारे जीवन के आरम्भ और  अंतिम  समय तक हमारे जीवन में खुशिया ही खुशिया लाने का सामर्थ्य  रखते है | 

DR. Deep Kumar Thakur
DR. Deep Kumar Thakur

q? encoding=UTF8&ASIN=B09N9RZ2WS&Format= SL160 &ID=AsinImage&MarketPlace=IN&ServiceVersion=20070822&WS=1&tag=dharmendra02d 21&language=en INir?t=dharmendra02d 21&language=en IN&l=li2&o=31&a=B09N9RZ2WS

Pravaran Kavya is Available all Platform

Pravaran Kavya

Links is Here 

  1. Pravaran Kavya on Amazon Kindle  Available 
  2. Pravaran Kavya on Wissen Book Store   Available
  3. Pravaran Kavya on Flipkart  Available
  4. Pravaran Kavya on Google Play Store   Available

q? encoding=UTF8&ASIN=B09N9RZ2WS&Format= SL250 &ID=AsinImage&MarketPlace=IN&ServiceVersion=20070822&WS=1&tag=dharmendra02d 21&language=en INir?t=dharmendra02d 21&language=en IN&l=li3&o=31&a=B09N9RZ2WS

Author: SPCH