CM’s announcements in JCC meeting

JCC meeting

CM’s announcements in JCC meeting | मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने जेसीसी की बैठक में की ऐतिहासिक घोषणाएं

AVvXsEhDC6NoibAOkYpJihzjt v6bCLeWijTYMx11fEAP30fWQoR9SJWJwsnJxlrTCtabNQ2iZ jgw0LtgcAid18rjodPsvEDvQ9sX1i3ehJ4ugSe3ZuYFZ8s37j9MBZaKqVIfIcxuLPSCX0fS k j8Ezqcwa1uzY4 KMpGCYP6RLplGHg t19DvVXGBP87oVw=w540 h359

मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने हिमाचल प्रदेश अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ की संयुक्त सलाहकार समिति (जेसीसी) की आज शिमला में आयोजित बैठक को संबोधित करते हुए राज्य के कर्मचारियों को 1 जनवरी, 2016 से नया वेतनमान प्रदान करने और जनवरी, 2022 का वेतन संशोधित वेतनमान के अनुसार फरवरी, 2022 में देने की घोषणा की। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सभी पेंशनभोगियों और पारिवारिक पेंशनभोगियों को भी 1 जनवरी, 2016 से संशोधित पेंशन और अन्य पेंशन लाभ दिए जाएंगे। संशोधित वेतनमान और संशोधित पेंशन/पारिवारिक पेंशन पर महंगाई भत्ता और महंगाई राहत प्रदान की जाएगी। उन्होंने कहा कि नए वेतनमान और संशोधित पेंशन से राज्य के कोष पर सालाना 6000 करोड़ रुपए का अतिरिक्त व्यय वहन करना पड़ेगा।

AVvXsEjnNTXzxntsd47nREZl O4FaIKj9 bRQYOEuDcLhN KKandKb10siZsHnxA utVhPAY1IHZW1sXo42hKHDoc2XlMSuFIRSDApo5OIs9Qhigliyj0Fm91Km1dZzi6Vbk272FfkYKYjOoVvaytJdDZkH6d8Z3X1As4vIJ6ZubNV5lWE3ukf2ahdcdDgbQ=w512 h341

इनवेलिड पेंशन और फैमिली पेंशन होगी कार्यान्वयन
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने राज्य सरकार के कर्मचारियों को केंद्र सरकार के 5 मई, 2009 के कार्यालय ज्ञापन के अनुसार 15 मई, 2003 से नई पेंशन प्रणाली (इनवेलिड पेंशन और फैमिली पेंशन) के कार्यान्वयन की भी घोषणा की। उन्होंने कहा कि इससे राज्य के कोष पर करीब 250 करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा। मुख्यमंत्री जी ने राज्य सरकार के अनुबंध कर्मचारियों के नियमितीकरण की अवधि तीन वर्ष से घटाकर दो वर्ष करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों, अंशकालिक कामगारों, जल रक्षकों और जलवाहकों आदि के संबंध में नियमितीकरण/दैनिक वेतनभोगी के रूप में रूपान्तरण के लिए भी एक-एक वर्ष की अवधि कम की जाएगी। उन्होंने लंबित चिकित्सा प्रतिपूर्ति बिलों के भुगतान के लिए 10 करोड़ रुपये की अतिरिक्त राशि जारी करने की भी घोषणा की।

AVvXsEhW38w7fgOkUs VKDJOIkny0fyXPKAIWZEmP2gV4cY57FDGKsMZRVMNBto ePMUFCe2QR7XxPvH6DIZRtZG4udHp9RJNfzREA1wSKy7Y4 NCQftRCv0tSFbNtORQxQdq9GMFWsasa3WkDZeEnIXKVRuPrCv69vlfVsTxiGsP1que5xl0 xXyx2xmvXdjA=w508 h338

करूणामूलक आधार पर नियुक्ति के लिए गठित होगी समिति
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि करूणामूलक आधार पर नियुक्ति के लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक समिति गठित की जाएगी। यह समिति आगामी मंत्रिमंडल बैठक में अपनी प्रस्तुति देगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य के जनजातीय क्षेत्रों में कार्यरत दैनिक वेतन भोगी एवं अनुबंध कर्मचारियों को जनजातीय भत्ता देने पर भी विचार करेगी।

इन एनपीएस कर्मचारियों को मिलेगी ग्रेच्युटी
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि एनपीएस कर्मचारियों को अब पेंशन निधि चुनने की स्वतंत्रता होगी, जिससे उनके निवेश पर बेहतर रिटर्न सुनिश्चित हो सकेगा। उन्होंने कहा कि अब तक इन कर्मचारियों को सरकार द्वारा चुनी गई पेंशन निधि में ही निवेश अनिवार्य था। उन्होंने कहा कि सभी एनपीएस कर्मचारियों को डीसीआरजी लाभ प्रदान किया जा रहा है और अब सरकार ने 15 मई, 2003 से 22 सितम्बर, 2017 तक इस लाभ से वंचित एनपीएस कर्मचारियों को ग्रेच्युटी प्रदान करने का निर्णय लिया है।

AVvXsEgke3eLCw5rsWuf6Tn7XMU4RzFemqyZ um3DK1nhmMfrmPmITet8x2SXzHC3 AKS496NCaNAV8x3JR57sxSjS3Jqv oyX8IdYX2X7TpM1mBIw377e96eEQ F53xphBCNH QmqSkgdekMNOr54CqWV16lnUFKiAXHJf2W8L9jL82U4DidTvvwTVGnifucw=w503 h503

हिमाचल के विकास के लिए कर्मचारियों का योगदान उल्लेखनीय
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि राज्य के विकास में कर्मचारियों का उल्लेखनीय योगदान रहा हैं। कर्मचारियों की परिश्रम, समर्पण और प्रतिबद्धता के कारण ही हिमाचल आज देश के अन्य राज्यों के लिए एक आदर्श के रूप में उभरा है। उन्होंने कहा कि जनसंख्या और कर्मचारी अनुपात के मामले में भी हिमाचल प्रदेश देश का पहला राज्य है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी के कारण देश की अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है और हिमाचल भी इसका अपवाद नहीं है। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों ने इस महामारी से लड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और राज्य इस संकट से सफलतापूर्वक बाहर निकलने में सफल रहा है।

AVvXsEjGTYzcXixphRINE68BVnBB2Z4PWAfv1XAeS9DBuZzSRV q6aycVMh6OeqX9vZuLJcQ9VOunqzA1NHOqzggqUHll2eqYtMtw4tPoJKzH9Roa0bcVWuQx38o83PWbD5kNB8PgmnBoaBhHz9ACGfmiCXKyUxqlHUFV2xAWzZH2csOxlscIIr8U8Ohp5i fA=w542 h542

कर्मचारियों व पेंशनभोगियों के लिए राज्य सरकार का 50% बजट
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि राज्य सरकार अपने कुल बजट का लगभग 43 प्रतिशत कर्मचारियों और पेंशनभोगियों पर व्यय कर रही है, जोकि छठे वेतन आयोग के लागू होने के बाद 50 प्रतिशत तक बढ़ जाएगा। उन्होंने कहा कि पिछले लगभग चार वर्षों के दौरान राज्य सरकार ने प्रदेश के कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के डीए में 22 प्रतिशत की वृद्धि की है और उन्हें 1320 करोड़ रुपये का वित्तीय लाभ प्रदान किया गया है। इसके अतिरिक्त उन्हें 12 प्रतिशत अंतरिम राहत की दो किस्तें भी प्रदान की गईं, जिससे कर्मचारियों को लगभग 740 करोड़ रुपये का लाभ हुआ है।

AVvXsEgobeLEvVjIOKbJW QXWN1fZUKLc3TMa9PfYZbVCO8zsNhlO CMLRTbsHi7y8HHSwTvkFcoorOvxVugUth0MbWwskgzk5oFRuvhO8EdKc7fuOP5ixh8tNBXaGJklfjxWC6o5WZWXJ tiLpWm rFfP8MD15IG LsrpucRxC823m1rhughKPLsbntaJC2ag=w598 h598

अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त एवं कार्मिक श्री प्रबोध सक्सेना जी ने मुख्यमंत्री जी का स्वागत किया और बैठक की कार्यवाही का संचालन किया। उन्होंने कहा कि नीति आयोग के सतत विकास लक्ष्यों में हिमाचल प्रदेश केरल के बाद दूसरा राज्य है। राज्य एनजीओ फेडरेशन के अध्यक्ष श्री अश्वनी ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी के कुशल नेतृत्व में वर्तमान राज्य सरकार ने प्रदेश के कर्मचारियों का कल्याण सुनिश्चित किया है और कर्मचारियों ने अविलंब अपने सभी देय लाभ प्राप्त किए हैं। उन्होंने कहा कि महामारी के दौरान भी, प्रदेश सरकार ने कई अन्य राज्यों के विपरीत यह सुनिश्चित किया कि कर्मचारियों को उनका वेतन और बकाया समय पर मिले।

AVvXsEhOFsOYtah0or57sdZRkpA hcBkILMW38H0nBL5J5iM3oJL76dvCvR2fJo ljn9R3otQl5e9 5gBfEbC4Ngf9QQXwScKZaSHSRJD5OQbva6MTi6J7hksADULrZ6usH9qE0XW89TkGdARSC9reOdKxfPVJjen8n6sr5QJHogey8y 3GtBDdnXs WxFljug=w489 h489

राज्य एनजीओ फेडरेशन के महासचिव राजेश शर्मा ने कर्मचारियों की विभिन्न मांगों पर विचार करने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि एक साधारण परिवार से सम्बन्ध रखने वाले मुख्यमंत्री आम आदमी की कठिनाइयों से भलीभांति परिचित हैं। उन्होंने आश्वस्त किया कि कर्मचारी राज्य सरकार की नीतियों और कार्यक्रमों के प्रभावी कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकार के प्रतिनिधि के रूप में कार्य करेंगे। मुख्य सचिव राम सुभग सिंह, अतिरिक्त मुख्य सचिव संजय गुप्ता, आर.डी. धीमान और जे.सी. शर्मा, प्रधान सचिव ओंकार शर्मा, रजनीश और सुभाशीष पांडा, सचिव देवेश कुमार, अमिताभ अवस्थी, डॉ. अजय शर्मा, अक्षय सूद सहित अन्य अधिकारी भी बैठक में उपस्थित थे।

 


मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने राज्य के अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए सरकारी खजाने को खोल दिया है. मुख्यमंत्री ने शनिवार को संयुक्त सलाहकार समिति (जेसीसी) की बैठक में पंजाब की तर्ज पर कर्मचारियों के लिए बहुप्रतीक्षित नए वेतनमान की घोषणा की है. इसका लाभ प्रदेश के ढाई लाख कर्मचारियों और करीब डेढ़ लाख पेंशनभोगियों को मिलेगा. राज्य सरकार के अनुबंध कर्मचारियों के नियमितीकरण की अवधि को तीन साल से घटाकर दो साल करने की भी घोषणा की गई है। 30 सितंबर 2020 से अनुबंध कर्मचारियों को दो साल बाद नियमितीकरण का लाभ मिलेगा। राज्य सरकार यह लाभ साल में दो बार 31 मार्च और 30 सितंबर को देती है। कर्मचारी भी यह मांग उठा रहे थे। इससे 19 हजार कर्मचारियों को फायदा होगा, साथ ही नई भर्तियों को भी इसका फायदा मिलेगा। नए वेतनमान के तहत सबसे कम वेतन पाने वाले कर्मचारियों जैसे नवनियुक्त लिपिक को तीन से साढ़े तीन हजार रुपये मासिक और वरिष्ठ एचएएस अधिकारियों, डॉक्टरों आदि को 15 से 20 हजार रुपये मासिक लाभ मिलेगा. पेंशनभोगियों को भी 1 से 10 हजार रुपये तक का लाभ मिलेगा। हालांकि अभी सरकारी स्तर पर इसकी ठीक से गणना की जा रही है।

पंजाब में छठे वेतन आयोग की सिफारिशें लागू होने के बाद शनिवार को पीटरहॉफ शिमला में हिमाचल प्रदेश अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ की जेसीसी बैठक में जय राम ठाकुर ने यह घोषणा की। सीएम जयराम ने 1 जनवरी 2016 से नया वेतनमान और फरवरी से 2022 का संशोधित वेतनमान देने की घोषणा की उन्होंने कर्मचारियों के लिए करीब साढ़े सात हजार करोड़ रुपये की घोषणा की। नए वेतनमान और संशोधित पेंशन से राज्य के खजाने पर सालाना 6000 करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार अपने कुल बजट का लगभग 43 प्रतिशत कर्मचारियों और पेंशनभोगियों पर खर्च कर रही है, जो कि छठे वेतन आयोग के लागू होने के बाद बढ़कर 50 प्रतिशत हो जाएगा।

सभी पेंशनभोगियों और पारिवारिक पेंशनभोगियों को 1 जनवरी 2016 से संशोधित पेंशन और अन्य संबंधित लाभ मिलेंगे।
संशोधित वेतनमान और संशोधित पेंशन या पारिवारिक पेंशन पर महंगाई भत्ता और महंगाई राहत दी जाएगी।
केंद्र के 5 मई 2009 के कार्यालय ज्ञापन के अनुसार 15 मई 2003 से नई पेंशन प्रणाली अमान्य पेंशन और पारिवारिक पेंशन के कार्यान्वयन की भी घोषणा की, जिससे राज्य के खजाने पर 250 करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा।

दैनिक वेतन भोगी श्रमिकों, अंशकालिक श्रमिकों, जल रक्षकों और जलवाहकों आदि के संबंध में, दैनिक वेतन भोगी के रूप में नियमितीकरण और रूपांतरण के लिए एक-एक वर्ष की अवधि कम कर दी जाएगी। चिकित्सा प्रतिपूर्ति बिलों के भुगतान के लिए 10 करोड़ रुपये की अतिरिक्त राशि देंगे

जय राम ठाकुर ने कहा कि नई पेंशन प्रणाली यानी एनपीएस कर्मचारियों को अब पेंशन फंड चुनने की आजादी होगी, जिससे उनके निवेश पर बेहतर रिटर्न सुनिश्चित होगा। एनपीएस कर्मचारियों को डीसीआरजी का लाभ दिया जा रहा है। अब सरकार ने इस लाभ से वंचित एनपीएस कर्मचारियों को 15 मई 2003 से 22 सितंबर 2017 तक ग्रेच्युटी देने का फैसला किया है.

Author: SPCH